Monday, November 18, 2019
Home > Business > Mutual Fund Vs Fix Deposit कहा निवेश करना चाहिए
BusinessLearn Mutual FundMutual Funds

Mutual Fund Vs Fix Deposit कहा निवेश करना चाहिए

नमस्कार दोस्तों आज हम लोग जानेगे की आपके लिए Mutual Funds और Fix Deposit में से कौनसा निवेश बेहतर होगा| उससे पहले आप जान लीजिए की हम लोग क्या बात करेगे इस लेख में| Mutuals Funds बनाम Fix Deposit, Mutual Funds क्या है, Fix Deposit क्या है और साथ ही इन दोनों निवेश में से आपके लिए सबसे बेहतर निवेश क्या है?

म्यूच्यूअल फंड्स और फिक्स डिपाजिट के अंतर को समझना होगा  तो चलिए समझते है म्यूच्यूअल फंड्स और फिक्स डिपाजिट को

Mutual Funds क्या है?

म्यूच्यूअल फंड्स को अगर सरल भाषा में समझा जाए तो, आप समझ सकते है की अगर आपको शेयर मार्किट की जायदा समझ नहीं है तो आप म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश करके अपने पैसे को अप्रत्यक्ष रूप से शेयर मार्किट में निवेश करते है| क्यूकी म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश किया गया आपका पैसा आपके द्वारा चुने गए अनुभवी fund Manger के द्वारा बाजार में निवेश किया जाता है|

Fix Deposit क्या है? 

फिक्स डिपाजिट बैंक और पोस्ट ऑफिस के द्वारा चलाई जा रही एक योजना है जिसमे आप सभी को एकमुश्त निवेश करना होता है एक समयसीमा के लिए| समयसीमा पूरा होने पर आपको पूरे ब्याज के साथ आपके जमा किये हुए पैसे को जोड़ कर वापस कर दिया जाता है|

मुझे लगता है की आपको दोनों निवेश के बारे में समझ आ गया होगा की म्यूच्यूअल फंड्स हमे कैसे हमारे निवेश पर पैसे कमा कर देता है और साथ फिक्स डिपाजिट किस तरह से काम करता है| तो चलिए अब हम इनके बीच के अंतर को समझते है एक एक करके|

निवेश में अंतर :

म्यूच्यूअल फंड्स में आपको दो तरह से निवेश करने का मौका मिलता है, एक तो आपको महिना का निवेश जिसे म्यूच्यूअल फंड्स की भाषा में SIP कहा जाता है और साथ ही दूसरा जिसमे आपको एकमुश्त पैसा एक समयसीमा के लिए निवेश करने का मौका मिलता है जिसे म्यूच्यूअल फंड्स की भासा में Lumpsum कहा जाता है|

फिक्स डिपाजिट में केवल आपको एकमुश्त पैसा निवेश करने का मौका मिलता है, जो की आप एक समयसीमा के लिए बैंक, पोस्ट ऑफिस, आदि में निवेश करते है| और यह समयसीमा पर परिपक्वा होने के बाद एकमुश्त राशी के रूप में आपको पैसा वापस मिल जाता है जिनता भी आपके निवेश किये गए पैसे ने कमाई की होती है|

Return में अंतर:

म्यूच्यूअल फंड्स बेहतर निवेश के लिए जाना जाता है क्यूकी म्यूच्यूअल   फंड्स  में निवेश के  बेहतर आप्शन है और अगर लम्भी अवधी के लिए म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश किया जाए तो आपको बेहतर return देखने को मिलेगा| आपके मन में यह प्रश्न आ रहा होगा     कैसे यह संभव है की जायदा रेत्रून देखने को मिलेगा. आपको बता दे म्यूच्यूअल फंड्स ने लम्बी अवधी  के निवेश पर एवरेज 15% से भी जायदा का return दिया है| और अगर आपकी फंड्स का चुनाव सही तरके से करते है तो आपको 15% से भी जायदा का return देखने को मिल सकता है|

फिक्स डिपाजिट की तुलना की बात आती है म्यूच्यूअल फंड्स से तो यहाँ आपको return म्यूच्यूअल फंड्स की तरह तो नहीं पर आपको आपके पैसे पर सुरक्षा म्यूच्यूअल फंड्स से बेहतर देखने को मिलेगी| क्यू की फिक्स डिपाजिट आपको बैंक्स, पोस्ट ऑफिस या जहा भी आप फिक्स डिपाजिट का account खुलवाते है उस संस्था में आपका FD पर return फिक्स कर दिया जाता है समय के अनुसार और उस return का आपको फायदा मिलता है जब आपका निवेश परिपक्वा हो जाता है|

मुझे लगता है की आपको कुछ हद तक समझ में आ गया होगा की कहा निवेश करना चाहिए| आगे हम और कुछ detail में जानकारी लेते है जिससे आपको और बेहतर तरीके से सब कुछ क्लियर हो पाए की आपको कहा निवेश करना चाहिए|

सबसे पहले तो ये जान लीजिए की यहा दो तरीके के निवेशक फिक्स डिपाजिट और म्यूच्यूअल फंड्स को लेकर असमंजस में है की हमे किसके साथ जाना चाहिए, पहले तो वो जो की निवेश में बिलकुल नए है वो सकते है आप और आप यहाँ असमंजस में है की किसके साथ जाये और साथ दुसरे वो लोग जिनके म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश किये हुए पैसे पर return के नाम पर कुछ भी नहीं मिल पा रहा है| आइये दोनों निवेशक के बारे में समझते है|

नए निवेशक को कहा निवेश करना चाहिए:

अगर आप निवेश में बिलकुल नए है और असमंजस में है की कहा निवेश करे तो सबसे पहले आपको ये देखना है की आपका समय क्या है निवेश करने का और साथ आपको यह भी पता करना और अपने आप से पूछना है की आप अपने पैसे पर कितना रिस्क ले सकते है| अब अपने यह चुनाव कर लिया, तो अगर आपके निवेश की समयसीमा जायदा है तब आपको बेहतर return के लिए म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश करना चाहिए| और वही अगर आपके समयसीमा 3 या 4 साल तक का है तो आपको निवेश करना चाहिए फिक्स डिपाजिट| क्यू की दोस्तों अगर आप लम्भी अवधी के लिए म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश करते है तो आपको बेहतर return देखने को मिलेगा फिक्स डिपाजिट की तुलना में|

यह सबकुछ पडने के बाद आपके मन में यह प्रश्न आ रहा होगा की हमे फिक्स डिपाजिट से क्यू नहीं अच्छा  return मिल सकता है? तो में आपको बता दू की फिक्स डिपाजिट में आपको एक फिक्स return ही देखने को मिलता है जो की 6 से 8 प्रतिशत तक सिमित होता है पर आपका निवेश यहाँ पर जायदा सुरक्षित होता है| और वही पर म्यूच्यूअल फंड्स में आपको बाजार के बेहतर प्रदशर्न पर return मिलता है|

पुराने म्यूच्यूअल फंड्स निवेशक को क्या करना चाहिए?

यह बढ़ी समस्या है की आपको क्या करना चाहिए क्यू की अगर आपने निवेश किया है और उसकी परिपक्वता से पहले अपने निवेश किये गए पैसे को निकलना चाहते है तो हो सकता है की आपका return सही नहीं मिल पा रहा हो या फिर आपको अपने पैसे पर रिस्क लेने से और डर लग रहा होगा |  सबसे पहले तो आपको बता दू अगर आपका निवेश लम्भी अवधी का है, चलिए एक उधारण से समझते है: हम मानते है की अपने अपने निवेश को 10 साल के लिए किया है किसी भी म्यूच्यूअल फंड्स में और आपने निवेश के कुछ महीने या कुछ साल पूरा कर लिया है तो आपको यहाँ से निवेश को  ब्रेक नहीं करना चाहिए और ना ही आपको किसी और निवेश में वह से पैसे निकलना चाहिए जैसा की मै आपको शुरू में ही बताता चला आ रहा हु की म्यूच्यूअल फंड्स में लम्भी अवधी के निवेश पर अच्हा return देखने को मिल जाता है, तो आपको अपने फंड्स को जारी रखना चाहिए और आपने वाले समय में आपके फंड्स ने नेगेटिव रेत्रून दिया भी तो आपके फंड्स की लम्भी अवधी की वजह से आपका निवेश आने वाले समय में उसको cover कर के अच्हा return देगा|

और दोस्तों अगर हम उन म्यूच्यूअल फंड्स निवेशक की बात करे जो म्यूच्यूअल फंड्स में कम अवधी के लिए निवेश किये हुए है, जैसे की हम एक उधारण से समझे तो अगर हमने निवेश किया है 5 सालो के लिए और हमने निवेश के कुछ साल को पूरा कर लिया है पर हमारा निवेश नकरातमक return दे रहा है तो आपको उस फंड्स से एग्जिट कर लेना चाहिए और किसी दुसरे निवेश का जरिया तलाशना चाहिए या आपको किसी और फंड्स में निवेश करना चाहिए|

मुझे लगता है की आपको निवेश की पूरी समझ हो गई होगी की हमे फिक्स डिपाजिट को कब चुनना चाहिए और म्यूच्यूअल फंड्स को कब चुनना चाहिए अगर अभी भी कही प्रश्न है आपके मन में तो हमे जानने का मौका दे निचे कमेंट बॉक्स में

अधिक जानकारी के लिए यह विडियो जरुर देखे जहा आपको विडियो के माध्यम से समझाया गया है:

Ravi Kant
Hi... this is Ravi the man behind 'The Indian Fever' I am a full-time Youtuber as well as the blogger. I am providing here the perspective and analysis of knowledge and news by my own analysis.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *