Recent News
Home > ITR Forms > ITR Form 2 किसको भरना चाहिए
ITR Forms

ITR Form 2 किसको भरना चाहिए

ITR-Form 2

अगर आपकी सालाना इनकम 2.50 लाख से ज्यादा है तो ITR Form – 2 आपको भरना चाहिए. पर आप सभी के सामने ITR Form – 1 भी है. अगर आप ITR Form – 1 के योग्य है तो आपको वही भरना चाहिए. आप ITR-1 फॉर्म की डिटेल इस लिंक से ले सकते है.

READ HERE: ITR Form -1

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने सभी इंडियन और नॉन-इंडियन रेजिडेंट के लिए अलग-२ टैक्स फॉर्म को वर्गीकरण कर रखा है. उनके इनकम, उनके प्रोफेशन, रेजिडेंट स्टेटस, और किस सोर्स से पैसा कमा रहे है. ITR Form – 2 भी उन्ही इन्दिविसुअल या हिन्दू अनडिवाइडेड फैमिली (HUF) के लिए है. जिनकी इनकम किसी business या किसी प्रोफेशन से नहीं हो रही है.

कौन भर सकता है ITR Form-2 से IT Return

कोई भी इन्दिविसुअल या हिन्दू अनडिवाइडेड फैमिली (HUF) जो किसी बिज़नस या प्रोफेशन से, कमाई ना कर रहा हो वो ITR Form – 2 को यूज़ करके अपना ITR फाइल कर सकता है. निचे कुछ जरुरी योग्यता दी है उनको भी ध्यान रखियेगा.

  • अगर आप सैलरी पर है या जॉब कर रहे है तो इस फॉर्म से ITR फाइल कर सकते है.
  • अगर आप पेंशन पा रहे है तो ITR Form-2 का यूज़ कर सकते है .
  • अगर आप कोई विदेश की प्रॉपर्टी से या एसेट से कमा रहे है तो ITR Form -2 भर सकते है.
  • अगर आपकी इनकम एक से ज्यादा रेंटल प्रॉपर्टी से हो रही है तो आपको ये फॉर्म ITR के लिए भरना चाहिए.
  • अगर आप शेयर बाज़ार या म्यूच्यूअल फण्ड से लॉन्ग टर्म या शोर्ट टर्म कैपिटल गेन कर रहे है तो आपके लिए यह फॉर्म है.
  • अगर आपकी एग्रीकल्चर से 5000 रूपए से ज्यादा इनकम हो रही है तो इस फॉर्म को यूज़ करेगे.
  • अगर आपकी इनकम लोट्री या किसी भी तरह की gambling से होती है तो आप ITR Form – 2 को भरेगे.
  • अगर आप NRI है या अगर आप किसी दुसरे देश की नागरिकता ले चुके है. आप सभी इस फॉर्म को उसे कर अपने ITR फाइल कर सकते है.

कौन ITR Form-2 फाइल नहीं कर सकता है ?

  • इन्दिविसुअल या हिन्दू अनडिवाइडेड फैमिली (HUF) जो किसी बिज़नस या प्रोफेशन से इनकम बना रहे है.
  • और वह सारे इन्दिविसुअल जो ITR-1 नहीं भर सकते है वो ITR-फॉर्म 2 भी नहीं भर सकते है. लेकिन कुछ कंडीशन में. ITR-1 के बारे में जाने यहाँ से. क्लिक

क्या ITR फॉर्म-2 offline भर सकते है?

ITR फॉर्म-2 को offline फाइल करने के लिए कुछ शर्ते है:

पहली शर्त है की आपकी ऐज अगर 80 साल या उससे ज्यादा है तो आप IT return offline फाइल कर सकत है. और दूसरी शर्त है, आपकी इनकम 5 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. अगर इससे ज्यादा सालाना इनकम हो रही है तो आपको ऑनलाइन ही फाइल करना होगा.

How to download ITR form and file for return (The Indian Fever)

Link for download form: click here

ITR -2 offline कैसे जमा करे ?

  • सबसे पहले जो भी मैंने आपको ऊपर योग्यता बताई है उसको ध्यान से पड़े और देखे. अगर आप किसी भी तरह से योग्य नहीं तो दुसरे ITR फॉर्म को आपको भरना होगा .
  • दूसरा, अब आपको अपने ITR फॉर्म को डाउनलोड करना होगा जैसा की मैंने आपको ऊपर दिखाया है.
  • अब आपको अपने ITR फॉर्म में सारी जानकारी भरनी होगी जिसकी जरुरत है.
  • अब उस फॉर्म को लेकर आपको ‘आयकर संपर्क केंद्र’ जाना होगा. आयकर संपर्क केंद्र हर जिले में होता है.
  • आपको आयकर संपर्क केंद्र पहुचकर, फॉर्म जमा केंद्र पर जाना होगा. यह जानकारी आप केंद्र पर किसी से भी ले सकते है. मै सुझाव दूंगा की आप हेल्प डेस्क पर विजिट करे.
  • अब अधिकारी के पास जमा करने के लिए आपके पास, ITR-2 फॉर्म, सारी डिटेल के साथ भरा होंना चाहिए और साथ में एक स्वीकृति फॉर्म (acknowledgement), ITR-2 के साथ होना चाहिए .
  • स्वीकृति फॉर्म में (acknowledgement) आपकी ITR की जानकारी से रिलेटेड स्वीकृतिया होती है. जो भी अपने भरा है वो सब कुछ सही है .
  • फिर आपको एक स्टाम्प लगी हुई कॉपी दे दी जाती है, जब आप ITR -2 फॉर्म जमा कर देते है. (ध्यान रहे की आप सारे डॉक्यूमेंट की २ फोटोकॉपी करा ले ).

ITR-2 online कैसे जमा करे?

  • ITR-2 को ऑनलाइन जमा करने के लिए आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की ऑफिसियल साईट पर विजिट करना होगा. और वहा पर आपको अपना ऑनलाइन अकाउंट बना कर लॉग इन करना होगा.
  • ऊपर बताये हुए स्टेप को फॉलो कर के अपना ITR – 2 फॉर्म डाउनलोड करना होगा.
  • अब आपको अपने एम्प्लायर या बैंक से मिले फॉर्म में सारी डिटेल को दोबारा से चेक करना होगा. क्योकि जमा करने के बाद एडिट करने में आपको परेशानी होगी. इसलिए आप कई बार उसको चेक कर ले . जैसे की आपके Form 16, Form 16A, Form 16B, और Form 26 AS . जो भी फॉर्म है.
  • अब वेरीफाई कर लिया है तो अपने ITR-2 फॉर्म को अपलोड कर दीजिये. अपलोड करने के लिए आपको दोबारा से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर विजिट करना होगा. ध्यान रखियेगा आपको अपने फाइल को XML फॉर्मेट में कन्वर्ट करना होगा.
  • अब सबमिट करने के बाद आपका ITR फाइल कम्पलीट हो जायेगा. और अब आपके सामने स्वीकृति फॉर्म आ जायेगा. इसके साथ ही ITR-V भी आ जायेगा और आपके रजिस्टर किये हुए मेल पर यह सारी जानकारी सेंड कर दी जएगी.
  • अब आपका ऑनलाइन ITR-2 फॉर्म भर चूका है.

ITR-V क्या होता है ?

ITR-V आटोमेटिक जेनरेट होता है जब आप ITR कम्पलीट कर लेते है. यह आपको बताता है की आपने किन डिटेल्स को नहीं भरा है. यह ऑनलाइन जमा करते समय आता है . और इसमें जो भी डिटेल आपकी तरफ से मिस्सिंग है. उस डिटेल को 120 दिनों के अन्दर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को सेंड करना होगा.

ऑनलाइन ITR जमा करने के क्या फायदे है ?

ऑनलाइन ITR फाइल करना जबसे शुरू हुआ है इंडिया में तबसे इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की संख्या भी बड़ी है. क्योकि हमे ऑनलाइन ITR फाइल करने में आसानी होती है. और इसे हम कही से भी फाइल कर सकते है. लेकिन इसके अलावा भी कुछ फायदे है जो आपको पता होना चाहिए.

  • ऐसी बहुत सी डिटेल है जो की आटोमेटिक फिल हो जाती है. जैसे की एड्रेस, कांटेक्ट डिटेल, आपकी पर्सनल डिटेल. सॉफ्टवेर अपने आप यह सारी डिटेल फिल कर लेता है.
  • आटोमेटिक डिटेल फिल होने से आपको काफी आसानी होती है. इसमें गलती की कोई भी गुन्जाईस नहीं होती.
  • जो भी डिटेल सॉफ्टवेर औतोफिल करता है वो डिटेल इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के पास आलरेडी रहती है. जैसे की PAN CARD और आधार कार्ड. और यह भी एक कारण है की आपका PAN Card आधार कार्ड से लिंक करवाया जा रहा है.
  • ऑनलाइन ITR फाइल करने का सबसे बड़ा बेनेफिट है की सॉफ्टवेयर आपको सारी मिसिंग जानकारी के बारे में बता देता है . और आप उसको कलेक्ट कर आसानी से भर लेते है.
  • और ऑनलाइन ITR का यह भी बहुत ही अच्हा बेनिफिट है की आपको बहुत सारे कैलकुलेशन नहीं करने पड़ते है. सारा कैलकुलेशन सॉफ्टवेर अपने आप कर लेता है. तो गलती की कोई संभावाना नहीं होती है.

ITR Form-2 भरने के लिए जरुरी डॉक्यूमेंट

अगर आप अपना ITR-1 अभी तक नहीं फाइल किये है. तो जो मै आपको आगे बताऊंगा उन सारे डॉक्यूमेंट की चेकलिस्ट बना लीजियेगा.

Form 16

फॉर्म 16 खासकर उन लोगो के लिए है जो कोई जॉब में है. अगर आप 2019 – 20 के लिए ITR फाइल कर रहे है तो अपने सारे एम्प्लायर से फॉर्म 16 को कलेक्ट कर ले. सारे एम्प्लायर से मतलब है की इस साल आप जहा -जहा नौकरी किये हो.

Form 16A

अगर आप बैंक से ब्याज कमाए या आपको पेंशन मिल रही है तो यह फॉर्म 16 A आपके लिए काफी जरुरी डॉक्यूमेंट है. इसमें आपकी सारी पहले से भरी होती है.

Form 26 AS

यह फॉर्म आपके लिए जरुरी तब बनता है जब टैक्स डिडक्शन या डिपाजिट हुआ हो आपके वर्तमान वित्य वर्ष (FINANCIAL YEAR) में. अगर आप इस फॉर्म को भर रहे है तो ध्यान रखियेगा की आपके फॉर्म 16 A या फॉर्म 16 AS से सारी जानकारी मेल खाती हो. इस फॉर्म को आप TRACES की वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते है . LINK पर क्लिक करे डाउनलोड करने के लिए.

बैंक पासबुक

बैंक पासबुक या आपके बैंक की स्टेटमेंट की जरुरत आप लोगो को पड़ेगी . इसकी जरुरत इसलिए पड़ती है, क्योकि इस डॉक्यूमेंट में आपके बैंक में डिपाजिट पैसे, फिक्स्ड डिपाजिट, रेकरिंग डिपाजिट या कोई और स्कीम से एअर्ण किये ब्याज . साथ ही आपके कटे हुए पैसो की भी डिटेल होती है. इसलिए आपके लिए यह बहुत जरुरी डॉक्यूमेंट है.

निवेश और टैक्स छुट के सारे डॉक्यूमेंट

इस तरह के डॉक्यूमेंट आपके ITR प्रूफ के लिए होते है. और इनकी डिटेल देना बहुत जरुरी होता है, फाइनेंसियल इयर ख़तम होने से पहले. जैसे की आपने कुछ INVESTMENT किये है पर उसके पुख्ता साबुत नहीं है तो इसमें आप उन INVESTMENT को सपोर्ट करने वाले डॉक्यूमेंट को दिखा कर टैक्स छुट का दावा कर सकते है. पर ध्यान रहे की आपसे इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आगे चलकर ओरिजनल डॉक्यूमेंट मांग सकता है.

PAN CARD

अगर आप लोग इनकम टैक्स रिटर्न फाइल कर रहे है तो सबसे जरुरी डॉक्यूमेंट यही है. अगर आप लोगो के पास पैन कार्ड नहीं होगा तो आप ITR फाइल नहीं कर पायेगे .

Read More Article: Full detail of ITR-1

Ravi Kant
Hi... this is Ravi the man behind 'The Indian Fever' I am a full-time Youtuber as well as the blogger. I am providing here the perspective and analysis of knowledge and news by my own analysis.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: